LALLANTOP EVENT

LALLANTOP EVENT

 

Invite friends

Contact Us

Page Views : 62

About The Event

 

आपके फोन, टैब, लैपटॉप और दिल में घुसकर अपनी जगह बनाने के बाद द लल्लनटॉप ले आया है अपना एक शो. बिलकुल लाइव. जिसकी ओपनिंग होने वाली है मुंबई में.

शो में आएंगे ढेर सारे लल्लनटॉप लोग. जिसमें ऐड, सिनेमा, साहित्य और संगीत की दुनिया के कई दिग्गज आएंगे. हमसे-आपसे मिलेंगे, बातें करेंगे. और सुनाएंगे वो कहानियां जिन्होंने उन्हें बनाया, बिगाड़ा और वहां लाकर खड़ा किया, जहां वो हैं. आओ, मिलते हैं 18 दिसंबर, इतवार को दोपहर 2 बजे. ऑक्सफोर्ड बुक स्टोर, चर्चगेट, मुंबई.

 
Programme Schedule
 
14:00 - 14:15
Inaugural
लल्लनटॉप. क्या है लल्लनटॉप? एक बरस के सफर में इसके साथ कैसे खूबसूरत हादसे पेश आए? क्या इल्जाम लगे, कैसे तमगे मिले और कौन से नए साथी जुड़े, बताएंगे सरपंच.
 
Speaker:
सौरभ द्विवेदीसरपंच, लल्लनटॉप
14:15 - 15:00
ब्रेक के बाद
इन दिनों विज्ञापनों में सामाजिक दायित्व का बोध ज्यादा दिख रहा है. वो देखे जाते हैं, परखे जाते हैं और उनकी आलोचना होती है. उन पर खबरें बनती हैं. ये सब विज्ञापन की भाषा पर किस तरह असर डालता है?
 
Speaker:
प्रद्युम्न चौहानक्रिएटिव डायरेक्टर
अमित शर्माफिल्म डायरेक्टर
15:00 - 16:00
पत्रकार फिल्मकार
सिनेमा की तरफ पत्रकारों के जाने का चलन बहुत पहले से रहा है. दो छोरों पर मनोहर श्याम जोशी और कमलेश्वर के उदाहरण हैं. सिनेमा पत्रकारों को क्यों आकर्षित करता है? एक पत्रकार के तौर पर होने वाले अनुभव फिल्म में किस तरह मदद करते हैं?
 
Speaker:
अश्विनी चौधरीफिल्म डायरेक्टर
रामकुमार सिंहस्क्रिप्ट राइटर
अविनाश दासराइटर, फिल्म डायरेक्टर
गौरव सोलंकीराइटर
16:00 - 16:15
TEA
16:15 - 17:15
उसने कहा था
क्या अभिव्यक्ति के नए माध्यमों में विधाओं का संघर्ष खात्मे की ओर है? क्या आगामी साहित्य को विधाओं के नहीं, कंटेंट के स्तर पर पहचाना जाएगा? हिंदी में फिक्शन के नए रूपों और प्रयोगों का अभाव क्यों हैं? इस ओर अगर कुछ हुआ भी है, तो उसका स्वीकार और सफलता सीन में क्यों नहीं है?
 
Speaker:
सुंदरचंद ठाकुरकवि-कथाकार
मधु कांकरियाकथाकार
बोधिसत्वकवि
17:15 - 18:15
पिक्चर वाली पोयम
पिछले कुछ सालों में हमने गानों में नए, ताजे और स्थानीय शब्द ज्यादा सुने हैं. इन शब्दों के गानों में आने की क्या प्रक्रिया है? ये जान-बूझकर होता है या अपने आप, अनजाने में?
 
Speaker:
कुमारलिरिसिस्ट
राजशेखरलिरिसिस्ट
पुनीतलिरिसिस्ट
18:15 - 19:15
फाइनल ड्राफ्ट
स्क्रिप्ट राइटर, गीतकार और फिल्मकार सिनेमा की भाषा तय करते हैं. लोकल कल्चर या सबकल्चर दिखाते हुए किस तरह के भाषाई दबाव होते हैं?
 
Speaker:
सुधीर मिश्रफिल्म डायरेक्टर
जयदीप साहनीस्क्रिप्ट राइटर, लिरिसिस्ट
वरुण ग्रोवरस्क्रिप्ट राइटर, लिरिसिस्ट, कॉमेडियन
19:15 - 00:00
संगत
बातचीत और गाने-बजाने का ओपन सेशन
 
 
स्वानंद किरकिरेलिरिसिस्ट
इरशाद कामिललिरिसिस्ट
अमितोष नागपालऐक्टर, स्क्रिप्ट राइटर, लिरिसिस्ट
रचिता अरोड़ाम्यूज़िक कंपोज़र
रोहितम्यूज़िक कंपोज़र

Venue Map